अफगानिस्तान में गुरुद्वारे से निशान साहिब हटाने की घटना सबसे दुर्भाग्यपूर्ण: इकबाल सिंह लालपुरा

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता इकबाल सिंह लालपुरा ने अफगानिस्तान के गुरुद्वारे से निशान साहब को हटाने की तालिबानी ताकतों द्वारा की गई बेअदबी की हालिया घटना की कड़े शब्दों में घोर निंदा की है। उन्होंने कहाकि यह घटना न केवल दुर्भाग्यपूर्ण है क्यूंकि अमेरिकी सेना देश छोड़ रही है और अफगानिस्तान में सिखों के अल्पसंख्यक समुदाय को ही अधिक निशाना बनाया जा रहा है।

लालपुरा ने कहाकि गुरुद्वारे के केयरटेकर को धमकाया गया और दरअसल कुछ दिन पहले इसी गुरुद्वारे से एक ग्रंथी का अपहरण कर लिया गया था। यह ध्यान देने योग्य है कि सदियों से मुस्लिम समुदाय के साथ शांतिपूर्वक रह रहे सिखों की एक छोटी संख्या अफगानिस्तान में रहती है। हालाँकि जब से अफगानिस्तान में तालिबान का उदय हुआ है, सिखों को बार-बार निशाना बनाया जाता रहा है।

लालपुरा ने कहाकि भाजपा इस घटना पर खेद व्यक्त करती है क्यूंकि इस घटना ने दुनिया भर के सिखों के हृदय को बहुत गहरी चोट पहुंचाई है। उन्होंने कहाकि हमारा सिख समुदाय तालिबान के प्रकोप का सामना कर रहे हैं। लालपुरा ने कहाकि भारत सरकार अफगानिस्तान में रहने वाले सिखों की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है।