अफगानिस्तान से 400 लोगों की सुरक्षित वापसी तथा श्री गुरु ग्रन्थ साहिब को सम्मान सहित लाने के लिए पंजाब भाजपा ने किए मोदी का धन्यवाद : शर्मा

whatsapp-image-2021-08-25-at-17-10-20-1
पंजाब में होने वाले 2022 के विधानसभा चुनाव को भारतीय जनता पार्टी, पंजाब की प्रदेश पदाधिकारियों की चली बैठक प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अश्वनी शर्मा के नेतृत्व में सर्कट हाउस, जालंधर में सम्पन्न हुई। इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष के साथ मंच पर संगठन महामंत्री दिनेश कुमार, प्रदेश महासचिव जीवन गुप्ता, डॉ. सुभाष शर्मा, राजेश बागा भी उपस्थित थे। इस अवसर पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने पंजाब की जनता को प्रदेश में भाजपा सरकार बनने पर ‘नशा-मुक्त पंजाब’ देने का संकल्प लिया।

अश्वनी शर्मा ने अवसर पर बैठक में कहा कि संगठन तथा पार्टी का कार्यकर्त्ता आगामी विधानसभा चुनाव के लिए पूरी तरह तैयार है और प्रदेश की जनता भी भाजपा को सत्ता परिवर्तन  के विकल्प के रूप में लाने के लिए तैयार है। क्यूंकि पंजाब की जनता कांग्रेस के कुशासन से त्राहि-त्राहि कर रही है और इससे छुटकारा पाना चाहती है। पंजाब की जनता ने बाकि सभी पार्टीयों को अजमा लिया है और इस बार वो बहुमत से अकेले भाजपा को मौका देना चाहेंगें। उन्होंने कहाकि विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी द्वारा आगामी दिनों में 117 सीटों पर बूथ सम्मेलन किए जाएंगे।अश्वनी शर्मा ने कहाकि पंजाब की जनता तथा भाजपा पंजाब के सभी कार्यकर्त्ता अफगानिस्तान से पंजाब के 400 लोगों की सकुशल भारत वापसी के लिए प्रधानमन्त्री नरेंदर मोदी का धन्यवाद करते हैं। कैबिनेट मंत्री हरदीप पुरी द्वारा श्री गुरु ग्रन्थ साहिब जी को अपने सर पर उठा कर सम्मान सहित लाने के लिए भी धन्यवाद किया। उन्होंने कहाकि इससे पंजाब का मान और बढ़ा है।

अश्विनी शर्मा ने मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि यहां बैठक करने की पार्टी की सामान्य प्रक्रिया है। उन्होंने कहा कि कृषि सुधार कानून लागू नहीं हुए हैं। कानूनों पर रोक लगी हुई है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार कह रही है कि 5 मेंबरी कमेटी बनाकर सहमति बना लेते हैं। फिर किसान बातचीत क्यों नहीं कर रहे? इसके बावजूद किसान आंदोलन क्यों कर रहे हैं? शर्मा ने कहाकि किसानों द्वारा बात ना करना उन्हें समझ नहीं आ रहा कि किसानों द्वारा ऐसा क्यों किया जा रहा है?

अश्वनी शर्मा ने पंजाब में भाजपा सरकार बनने पर किसानों को उनकी गन्ने की फसल का मूल्य 450 रूपये प्रति क्विंटल देने की भी बात कही। उन्होंने किसानों से संगठनों से आह्वान किया कि वह केंद्र सरकार से मिल-बैठ कर किसानों के हित्तों पर बात कर कोई बीच का रास्ता निकालें ताकि किसानों तथा अन्य देशवासियों को हो रहे नुक्सान को रोका जा सके। इस अवसर पर राकेश राठौर, राजेश हनी, राहुल महेश्वरी, प्रवीन बंसल, धनौला जी, अर्चना दत्त, उमेश शाकर, अनिल सरीन, गुरदेव शर्मा देबी, जनार्दन शर्मा, जिला अध्यक्ष सुशील शर्मा आदि उपस्थित थे।

अश्वनी शर्मा ने गन्ना किसानो की तरह किसान संगठनों को बातचीत के माध्यम से केंद्र सरकार के साथ बैठ समाधान निकालने का किया आह्वान।

अश्वनी शर्मा ने किसान संगठनों के नेताओं से आह्वान किया कि जैसे पंजाब सरकार के साथ गन्ना किसान उत्पादकों द्वारा गन्ने के रेट को लेकर मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के साथ बातचीत के जरिए 400 रूपये की मांग को 360 रूपये प्रति क्विंटल लेने के लिए मान कर मामला हल किया है, वैसे ही किसान संगठन कृषि कानूनों को रद्द करने का हठ छोड़ कर केंद्र सरकार से मिल-बैठ कर किसानों के हित्तों पर बातचीत कर कोई बीच का रास्ता निकालें ताकि किसानों तथा अन्य देशवासियों को हो रहे नुक्सान को रोका जा सके।