अश्वनी शर्मा द्वारा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को उनकी जयंती पर श्रद्धासुमन अर्पित।

whatsapp-image-2021-10-02-at-14-16-10
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के जन्म दिवस पर जहाँ सारा देश उन्हें नमन कर रहा है, वहीँ भारतीय जनता पार्टी पंजाब के प्रदेश मुख्यालय. सैक्टर 37-A, चंडीगढ़ में भी इस अवसर पर एक सादे कार्यक्रम के दौरान पुष्पांजली अर्पित की गई। भाजपा मुख्यालय में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अश्वनी शर्मा की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम के दौरान उपस्थित सभी भाजपा नेताओं ने राष्ट्रपिता तथा पूर्व प्रधानमंत्री के चित्र पर माल्यार्पण कर अपने श्रद्धासुमन अर्पित किए। इस अवसर पर संगठन महामंत्री दिनेश कुमार, प्रदेश भाजपा महासचिव जीवन गुप्ता, डॉ. सुभाष शर्मा, जीवन गर्ग आदि उपस्थित थे।

अश्वनी शर्मा ने इस अवसर पर उपस्थित कार्यकर्ताओं को अपने संबोधन में कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्म अक्टूबर 1869 को हुआ था और आज महात्मा गांधी की 152वीं जयंती है। उनके सम्मान में इस दिन को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अहिंसा दिवस के रूप में भी मनाया जाता है। पूर्व प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री जी का जन्म आज ही के दिन 1904 में हुआ था। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सत्य व अहिंसा के सिद्धांत हर दौर में प्रासंगिक रहेंगे। उन्होंने कहा कि बापू ने अंग्रेजों के विरुद्ध अहिंसा का मार्ग अपना कर देश की जनता को साथ लेकर आज़ादी की लड़ाई लड़ी। उन्होंने कहा कि उनके विचारों ने भारत ही नहींसंपूर्ण विश्व को मार्ग दिखाया है। शर्मा ने कहाकि प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार महात्मा गांधी के सत्याग्रहग्राम स्वराजछुआछूत को समाप्त करनेनशा मुक्ति व महिला सशक्तीकरण से संबंधित विचारों को धरातल पर उतार रही है। महात्मा गाँधी के ये विचार आज पहले से भी अधिक महत्वपूर्ण हो चुके हैं। केंद्र सरकार ने गांधी जी के ग्राम स्वराज्य के सपने को हकीकत में बदलने के लिए उठाए गए कदम हैं।

दिनेश कुमार ने इस अवसर पर अपने संबोधन में कहा कि महात्मा गांधी के सत्य व अहिंसा के सिद्धांत आज भी प्रासंगिक है। उन्होंने सत्याग्रहअहिंसा और शांति का रास्ता अख्तियार कर अंग्रेजी शासन से देश को आजाद कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। पूर्व प्रधानमंत्री स्व. लाल बहादुर शास्त्री को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उन्होंने कहा कि उनके जय जवान-जय किसान के नारे ने राष्ट्र को संकट की घड़ी में स्वाभिमान और एकजुटता के साथ मजबूती से खड़े होने का रास्ता दिखाया। इस अवसर पर उन्होंने स्वच्छता ही सेवा की शपथ दिलाते हुए सभी को सफाई का विशेष ध्यान रखने का आह्वान किया।