कांग्रेस के घमासान के चलते 18-44 आयु का टीकाकरण अभियान अधर में लटका। पंजाब में कोरोना से मौत की भयानक दर 2.5% से ऊपर. कांग्रेसी अपनी लड़ाई में व्यस्त: जीवन गुप्ता

jeevan-gupta-1
प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार ने देश के सभी नागरिकों को कोविड-19 से सुरक्षित रखने के लिए मुफ्त टीकाकरण अभियान चलाया हुआ है। लेकिन पंजाब कांग्रेस में कुर्सी तथा सत्ता की लड़ाई में प्रदेश की जनता को टीका लगवाने में बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश महासचिव जीवन गुप्ता ने पंजाब में धीमी गति से चलाए जा रहे टीकाकरण को लेकर पंजाब सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहाकि प्रदेश में अभी तक 45 वर्ष से उपर के लोगों का ही टीकाकरण किया जा रहा है, जबकि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह तथा प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने करीब 15 दिन पहले 18-44 वर्ष की आयु के लिए भी टीकाकरण शुरू किए जाने की घोषणा की थी, लेकिन वो भी कैप्टन के चुनावी वादों की तरह हवा हो गई। अभी तक 18-44 वर्ष की आयु वालों का टीकाकरण शुरू नहीं किया गया है। देश के अन्य राज्यों में 18 वर्ष से उपर के सभी लोगों को फ्री वैक्सीनेशन की जा रही है। प्रदेश के प्राइवेट अस्पतालों में 18-44 वर्ष की आयु वाले लोगों को 900 रूपये प्रति व्यक्ति प्रति डोज़ के हिसाब से टीके लगाये जा रहे हैं, जबकि सरकारी अस्पतालों में सिर्फ 45 वर्ष से उपर वाले लोगों को टीका लगाया जा रहा है। राज्य सरकार और उनका स्वास्थ्य विभाग सिर्फ प्राईवेट अस्पतालों पर नकेल कसने और कारवाई करने की गीदड़ भभकियां देता है, उन्हें प्राईवेट अस्पतालों की लूट दिखाई नहीं देती, जो रोजाना अख़बारों की सुर्खियाँ बने रहते हैं

जीवन गुप्ता ने कहाकि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह अपनी कुर्सी बचाने और आपने खिलाफ पार्टी में शुरू हो चुकी बगावत की आग को बुझाने में व्यस्त हैं और अपने खिलाफ उठी इस आग को शांत करने के लिए अपने बाग़ी विधायकों के परिवारों में शीर्ष नौकरीयाँ बाँट कर अपना वर्चस्व कायम रखने की कोशिश में लगे हुए हैं। जबकि प्रदेश की जनता अपने परिजनों को मौत के मुँह में जाने से बचाने के लिए दिन-रात लड़ाई लड़ रही है। लेकिन इन कांग्रेसियों को जनता की कोई फ़िक्र नहीं है। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह तथा उनकी सरकार की नालाईकी की वजह से आज पंजाब में मौत की दर 2.5% से ऊपर हो चुकी है, जो कि बहुत भयानक है। कैप्टन अपनी सरकार की नालाईकी और पंजाब में स्वास्थ्य सुविधाएँ उपलब्ध न करवा पाने के लिए भी केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराते हैं।

जीवन गुप्ता ने कहाकि पहले यही कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब में कोरोना वैक्सीनेशन संबंधी झूठा प्रचार पर इसे प्रदेश में शुरू नहीं करने दे रहे थे और जब केंद्र सरकार ने दबाव बनाया तो मजबूरन वैक्सीनेशन शुरू करनी पड़ी। उसके बाद जब कोरोना की दूसरी लहर ने जोर पकड़ा तो अपनी चार साढ़े वर्ष तक की लचर सरकार व्यवस्था के चलते प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाएँ उपलब्ध नहीं करवाई और उसका दोष केंद्र सरकार पर मढ़ने लगे। उन्होंने कैप्टन से सवाल किया कि क्या पंजाब में स्वास्थ्य सुविधाओं का प्रबंध करना केंद्र सरकार का काम है? गुप्ता ने कहाकि कांग्रेस के शीर्ष नेताओं से लेकर नीचे तक नेताओं को सिर्फ एक ही काम आता है और वो है मोदी सरकार द्वारा जो भी किया जा रहा है उसका विरोध करना और वो पिछले 25 वर्षों से यही सब कुछ कर रहे हैं। उन्होंने कहाकि आज देश में भाजपा की लहर है और जनता एक मज़बूत प्रधानमंत्री के हाटों में देश की बागडोर देख कर बहुत खुश है, जिसनें आज विश्व में भारत का नाम स्वर्णिम इतिहास में लिख दिया है। उन्होंने कहाकि पंजाब की जनता भी भाजपा के साथ है और आने वाले चुनाव में भाजपा जनता के सहयोग से पंजाब में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनाएगी।