कांग्रेस सरकार द्वारा जान-बूझकर की गई लापरवाही आपराधिक | पंजाब में कानून-व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई : अश्वनी शर्मा

whatsapp-image-2021-10-14-at-4-20-32-pm-1
भारतीय जनता पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सुरक्षा में गंभीर धांधली को पंजाब में पूरी तरह से कानून-व्यवस्था की चरमराई करार देते हुए मांग की है कि इस गंभीर चूक की जिम्मेदारी तय की जाए और दोषी पाए जाने वालों को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए क्योंकि यह  अस्वीकार्य है। शर्मा ने कहा कि इस घटना के जिम्मेवार राज्य की कांग्रेस सरकार ने शासन करने का नैतिक अधिकार खो दिया है।

अश्वनी शर्मा ने कहा कि यह किसी राज्य के इतिहास में नहीं बल्कि देश के इतिहास में पहली ऐसी घटना है जब प्रधानमंत्री को 20 मिनट तक सड़क पर राज्य सरकार द्वारा समर्थित असामाजिक तत्वों के कारण रुकना पड़ा हो। यह सब पंजाब की कांग्रेस सरकार की सोची-समझी साजिश के चलते हुआ है। चन्नी सरकार सही तथ्यों को जनता व केंद्र से छुपा रही है। शर्मा ने राज्य की कांग्रेस सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि अपने नीच राजनीतिक फायदे के लिए राज्य सरकार ने देश के प्रधानमंत्री की सुरक्षा से समझौता किया और उनकी जान को गंभीर खतरे में डाल दिया। शर्मा ने इस गंभीर घटना की जाँच की माँग की है। उन्होंने कहा कि यह घटना राज्य सरकार द्वारा जानबूझकर की है है और यह आपराधिक लापरवाही है।

अश्वनी शर्मा ने कहा कि राज्य सरकार बहाने बना कर आपना नाकामी छिपा नहीं सकती कि प्रधानमंत्री ने हैलीकॉप्टर से उड़ान भरने के बजाय ड्राइव करने का विकल्प चुनकर अपनी यात्रा योजना को अंतिम समय में बदल दिया। जबकि भारी बारिश और कम दृश्यता के कारण योजना में बदलाव किया गया था। शर्मा ने सवाल किया कि क्या राज्य सरकार को प्रधानमंत्री के कार्यक्रम स्थल तक पहुंचने के संभावित मार्गों को सुरक्षित करके सभी सुरक्षा सावधानी नहीं बरतनी चाहिए थी, क्योंकि यह उसकी जिम्मेदारी थी? शर्मा ने कहा कि राज्य सरकार का जानबूझकर प्रधानमंत्री के कार्यक्रम बिगाड़ने का इरादा था, क्योंकि वह नहीं चाहती थी कि प्रधानमंत्री लगभग 50,000 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं को शुरू करें, क्योंकि कांग्रेस को डर है कि इससे भाजपा को जनता का बहुत मज़बूत समर्थन मिलेगा।

अश्वाबी शर्मा ने कहा कि राज्य भर से उन्हें खबरें मिली हैं कि पंजाब पुलिस द्वारा समर्थित गुंडे भाजपा कार्यकर्ताओं और समर्थकों को कार्यक्रम स्थल तक पहुंचने से रोक रहे हैं। शर्मा ने कहा कि भाजपा कार्यकर्ताओं के धैर्य की परीक्षा न लें क्योंकि हम लंबे समय से धैर्य रखते आए हैं, लेकिन अब और नहीं। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि एक साल पहले हम पर बेरहमी से जानलेवा हमले किए गए और हमारे कार्यकर्ताओं का अपमान और उत्पीड़न किया गया। लेकिन फिर भी हमने अत्यंत संयम से काम लिया।  लेकिन अब बात देश के प्रधानमंत्री तक पहुँच गई है और यह किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं की जाएगी। शर्मा ने कहा कि अगर मुख्यमंत्री चन्नी ने सोच रहे हैं कि प्रधानमंत्री को राज्य में विभिन्न विकास परियोजनाओं को शुरू करने से रोक कर, वह पंजाब में भाजपा के विजय मार्ग को रोक सकते हैं, तो वह मूर्खों के दुनिया में रह रहे हैं। शर्मा ने कहा कि कांग्रेस की उलटी गिनती शुरू हो गई है और चन्नी सरकार आपने दिन गिनना शुरू कर दे।