गुरुपर्व के शुभ अवसर पर कृषि कानूनों को निरस्त करके प्रधानमंत्री ने दिया उदारता का प्रमाण: अश्वनी शर्मा

भारतीय जनता पार्टी पंजाब के प्रदेश अध्यक्ष अश्वनी शर्मा ने प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी द्वारा कृषि कानून वापिस लेने के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि प्रधानमत्री मोदी ने उदारतास्पष्टता और राज्य कौशल का फिर से प्रदर्शन किया है। शर्मा ने कहा कि गुरुपर्व के शुभ अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने किसानों के प्रति फिर से अपनी प्रतिबद्धता दिखाई कि उन्होंने और उनकी पार्टी ने कृषि क्षेत्र के उत्थान के लिए काम किया है, विशेष रूप से छोटे किसान जो कि 80 प्रतिशत कृषक समुदाय का गठन करते हैं।

अश्वनी शर्मा ने कहा कि पंजाब भाजपा के एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल ने 15 नवंबर को प्रधानमंत्री से मुलाकात की और उनसे करतारपुर कॉरिडोर को फिर से खोलने का अनुरोध किया और पंजाब से संबंधित महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की। करतारपुर कॉरिडोर 17 नवंबर को खोला गया और आज प्रधानमंत्री ने बाबा नानक के गुरुपर्व पर राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में घोषणा की कि तीनों संशोधित कृषि कानूनों को निरस्त किया जाता है। शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने बड़ी शालीनता के साथ कहा है कि हमारे तपस्या में कुछ कमी रही होगी कि कुछ किसान आंदोलन कर रहे हैं। हालांकि हमारी प्रतिबद्धता हमेशा कृषि क्षेत्र की आर्थिक स्थिति को बढ़ाने की थी। पिछले कुछ वर्षों में उर्वरक पर सब्सिडीफसल ऋणफसल बीमा या किसानों के खातों में सीधे पैसे जमा करना भाजपा की राष्ट्रीय सरकार की प्रमुख उपलब्धियां व प्रमुख निर्णय रहे हैं।

शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने कृषि बिल रद्द करके अपना पंजाब यतता पंजाबियों के प्रति विशेष लगाव फिर से सिद्ध किया है और साबित किया है कि वह पहले भी किसान हितैषी थे और अब भी हैं। शर्मा ने कहा कि पंजाब के लोगों ने हर पार्टी की सरकार देखी है, लेकिन इस बार पंजाब में 2022 में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनेगी, जिसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में पंजाब की तरक्की, खुशहाली और उन्नति के लिए भाजपा नए रिकॉर्ड कार्य करेगी और पंजाब को भारत का नंबर 1 राज्य बनाएगी।