तीक्ष्ण सूद ने मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी पर लगाए गंभीर आरोप | कांग्रेस ने 500 करोड़ की जमीन महज 45 करोड़ में चहेतो को बेची : तीक्ष्ण सूद

whatsapp-image-2021-12-25-at-5-02-29-pm1
पंजाब भाजपा के प्रवक्ता व पूर्व कैबिनेट मंत्री तीक्ष्ण सूद ने मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के द्वारा पंजाब से भ्रष्टाचार दूर करने के इश्तिहार व होर्डिंग के दावों को नकारे हुए कहा है कि पंजाब सरकार के लिए तो शायद भ्रष्टाचार कोई मुद्दा ही नहीं है। उन्होंने कहा कि भाजपा गत एक वर्ष से कांग्रेस के कुछ मंत्रियों के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप लगाती आ रही है जो सिद्ध हो चुके हैं। बावजूद इसके मुख्यमंत्री चन्नी उन भ्रष्ट मंत्रियों के खिलाफ कार्रवाई करने की जगह गलबहियां डालकर उन्हें विश्वास दिलाते हैं कि फिर से बनने वाली सरकार में उन्हें पहली कतार का मंत्री बनाया जाएगा।
सूद ने कहा कि पूर्व उद्योग मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा के रहते जेसीटी प्लॉट बांट घोटाला व पंजाब आनंद लैंप घोटाला जोर शोर से उठाए गए थे। उन्होंने कहा कि जेसीटी घोटाले में 500 करोड़ की जमीन महज 45 करोड़ में मंत्री सुंदर शाम अरोड़ा के चहेतों को बेच दी गई। जिसकी पुष्टि करते हुए एडवोकेट जनरल व वित्त विभाग ने इस घपलेबाजी के सौदे को रद्द कर दिया था जो मंत्री द्वारा किए गए भ्रष्टाचार का प्रत्यक्ष प्रमाण है।
भाजपा नेता ने बताया कि पीएसआइर्ईसी के डायरेक्टर ने भी इस घोटाले की सीबीआई से जांच कराने की मांग की हुई है। उन्होंने आरोप लगाया कि आनंद लैंप घोटाले में मंत्री अरोड़ा ने कानून की घज्जियां उड़ाते हुए एक प्लॉट के 125 प्लॉट बनाकर गुलमोहर डेवलेपर कंपनी को कुछ ही दिन में 600 से 700 करोड़ रुपये का लाभ पहुंचाया गया है। अब पीएसआइईसी के डायरेक्टर हिमांशू झा ने 9 दिसंबर 2021 को उद्योग विभाग के मैनेजिंग डायरेक्टर कुमार अमित को पत्र लिखकर इस घोटाले वाले सौदे को रद करने का निवेदन किया है। साथ ही उन्होंने इस सौदे को रद्द न किए जाने की हालत में इस्तीफे की पेशकश की है।
सूद ने कहा कि भाजपा सीएम चन्नी से पूछना चाहती है कि क्या भ्रष्टाचार के खिलाफ इश्तिहार देकर पंजाब के लोगों को बेवकूफ बनाना चाहती या फिर बेअदवी व नशे के मामलों की तरह भ्रष्टाचारियों पर भी कार्रवाई करते हुए आरोपित मंत्रियों के घोटालों की जांच सीबीआई व ईडी को सौंपते हुए लोगों का विश्वास जीतने का कोई इरादा है। इस अवसर पर भाजपा प्रदेश मीडिया प्रेस सचिव जनार्दन शर्मा भी उपस्थित थे।