पंजाब में पेट्रोल-डीजल के दाम अभी भी चंडीगढ़ व अन्य राज्यों से कहीं ज्यादा: जीवन गुप्ता

jeevan-gupta-1-1
भारतीय जनता पार्टी पंजाब के प्रदेश महासचिव जीवन गुप्ता ने पंजाब सरकार द्वारा प्रदेश में पेट्रोल-डीजल के दाम कम करके मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने भले ही पंजाब में पेट्रोल और डीजल के दाम कम करके प्रदेश की जनता को थोड़ी राहत दी है और इसके लिए मुख्यमंत्री चन्नी खुद ही अपनी पीठ थपथपा रहे हैं। शायद उन्हें यह नहीं पता कि मोहाली सहित समस्त पंजाब में पेट्रोल-डीजल की दरें अब भी सबसे ज्यादा हैं। गुप्ता ने कहा कि दरअसल केंद्र सरकार द्वारा पेट्रोल-डीजल के रेट कम किए जाने के बाद पंजाब भाजपा द्वारा पंजाब सरकार से भी प्रदेश में दाम कम करने की बार-बार मांग की जा रही थी और इस बारे में पंजाब सरकार को भाजपा द्वारा पत्र भी लिखा गया था, जिस पर मुख्यमंत्री को मजबूरन यह फैसला लेना पड़ा।

जीवन गुप्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री चन्नी ने पंजाब की जनता को पेट्रोल की कीमत पर 10 रुपये और डीजल की कीमत पर पांच रुपये कम करने का एलान किया था, लेकिन हकीकत में यह करीब 8:50 रुपये और 4 रूपये के करीब ही कम किया गया है। इससे साफ़ जाहिर है कि पंजाब सरकार की नीयत प्रदेश की जनता को लेकर कितनी साफ़ है? पंजाब सरकार की कथनी और करनी में कितना फर्क है यह जनता बहुत भली-भांति जानती है। गुप्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री चन्नी ने लोगों को अपनी तरफ से तो राहत दी है, लेकिन लोगों में अभी बहुत परेशान हैं कि अभी भी पेट्रोल और डीजल के दाम बहुत ज्यादा है। पड़ोसी राज्यों के मुकाबले मोहाली में डीजल अब भी महंगा है और पेट्रोल के दाम ज्यादा हैं। गुप्ता ने कहा कि डीजल की सबसे ज्यादा खपत पंजाब में किसानों द्वारा की जाती है और किसानों की हितैषी होने का दम भरने वाली पंजाब सरकार ही किसानों के साथ धोखा कर रही है। गुप्ता ने पंजाब सरकार से डीजल के दाम 10 रूपये और कम करने की मांग की। उन्होंने कहा कि पंजाब में डीजल सस्ता होने से सभी चीजों की कीमतों में गिरावट आएगी।

जीवन गुप्ता ने कहा कि भाजपा शासित राज्यों ने पेट्रोल के भाव में 8 रुपये और डीजल के भाव में 9 रुपये प्रति लीटर तक की कटौती की है। बीजेपी शासित लद्दाख से लेकर पुडुचेरी तक में पेट्रोल-डीजल के भाव में बड़ी कटौती की गई है। पेट्रोल के भाव में 8.75 पैसे प्रति लीटर तक की कटौती की गई है जबकि डीजल के भाव में 9.52 रुपये तक की कटौती की है। लेकिन कांग्रेस शासित राज्यों में अभी भी पेट्रोल-डीजल पर कटौती करने के लिए तैयार नहीं हैं, हालाँकि पंजाब सरकार ने केंद्र सरकार द्वारा दाम घटाए जाने के बाद मजबूरी में यह फैलसा लिया है।