शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) 117 विधानसभा क्षेत्रों पर उतारेगी अपने उम्मीदवार: सुखदेव सिंह ढींडसा

s-sukhdev-singh-dhindsa
शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) के अध्यक्ष और राज्यसभा सदस्य सरदार सुखदेव सिंह ढींडसा ने स्पष्ट किया कि उनकी पार्टी 2022 का विधानसभा चुनाव अपने दम पर लड़ेगी। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी सभी 117 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी और चुनावों में जीत दर्ज करेगी।
सरदार सुखदेव सिंह ढींडसा ने यह भी स्पष्ट किया कि उन्होंने सत्ता सुख भोगने के लिए शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) का गठन नहीं किया है, बल्कि उनका मुख्य लक्ष्य सिख पंथ और पंजाब की भलाई के लिए पूरी तरह से सक्रिय होकर शिरोमणि अकाली दल, शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी और श्री अकाल तख्त साहिब को एक परिवार के चंगुल से मुक्त करवाना है, ताकि अकाली दल के मूल सिद्धांतों को बहाल किया जा सके। सरदार ढींडसा ने आगामी विधानसभा चुनाव में एक दल विशेष के साथ गठबंधन की खबरों को भी अफवाह करार दिया और कहा कि किसी दल से गठबंधन की बात नहीं हुई है।
सरदार ढींडसा ने कहा कि पंजाब की जनता आज पारंपरिक पार्टियों की जनविरोधी नीतियों से बहुत दुखी है।  इसीलिए उन्होंने पंथ और पंजाब के कल्याण के लिए चौथा मोर्चा बनाने की आवश्यकता पर जोर दिया। लेकिन उन्होंने स्वयं कभी किसी पार्टी के साथ गठबंधन करने की पेशकश नहीं की। उन्होंने इस तरह की अफवाहें फैलाने वाले लोगों को आगाह किया।
 उन्होंने कहा कि जालंधर में 24 जुलाई को हुई बैठक के दौरान सभी पदाधिकारियों को जमीनी स्तर पर तैयारी करने और इच्छुक उम्मीदवारों को जोर-शोर से मैदान में उतरने का संदेश दिया है। उन्होंने कहा कि शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) के पास सक्षम और अनुभवी नेतृत्व है। उन्होंने कहा कि मालवा के कद्दावर नेता के साथ-साथ माझा और दोआबा के नेता भी पार्टी का अहम हिस्सा हैं। इनमें से कई नेता कैबिनेट मंत्री, संसदीय सचिव, संसद सदस्य, उपाध्यक्ष, विधायक और अन्य वरिष्ठ पदों पर रहे हैं। साथ ही महिला विंग की कमान भी अनुभवी शख्सियतों के हाथ में है। युवा विंग, जो पार्टी का मुख्य आधार है, के पास पार्टी को मजबूत करने के लिए दिन-रात मेहनत करने वाले अनुभवी और योग्य युवा हैं।
उन्होंने कहा कि अगले कुछ दिनों में पार्टी की नीतियों को प्रदर्शित करने वाला घोषणापत्र भी जारी किया जाएगा।  इसके अलावा श सरदार ढींडसा ने कहा कि पंजाब की कई नामी-गिरामी हस्तियां शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) का हिस्सा बनने जा रही हैं। इससे पार्टी को और मजबूती मिलेगी। उन्होंने कहा कि शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) राज्य में एक मजबूत क्षेत्रीय दल के रूप में पंजाब, पंजाबी और पंजाबियत का प्रतिनिधित्व करेगा।