40 हजार के स्प्रे के प्रचार – प्रसार पर खर्चे 16 करोड़ रुपए, ये हैं अरविन्द केजरीवाल का दिल्ली मॉडल :- डॉ सुभाष शर्मा.

whatsapp-image-2021-11-17-at-8-26-40-pm-2
भाजपा के प्रदेशमहामंत्री डॉ. सुभाष शर्मा ने तीखा हमला करते हुए कहा कि प्रदूषण को लेकर जिस प्रकार से सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हो रही है, उससे यह  साफ़ होता  है की दिल्ली को प्रदूषण मुक्त करने में केजरीवाल सरकार बिलकुल नाकाम रही है।उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के दिल्ली मॉडल का झूठ बेनकाब करते हुए आर टी आई की रिपोर्ट का हवाला देते हुए बताया की दिल्ली सरकार ने बायो डीकम्पोसर कैप्सूल 40 हजार रुपये में खरीदा जिसमें 35,780 रुपए का बेसन और गुड़ मलाकर तैयार किया गया। इसको शहर में स्प्रे करने के लिए 13,20000 की ,मशीनरी का इस्तेमाल हुआ और इस कार्यक्रम का जश्न मानाने पर 9,64,150 रुपए खर्च किये गए।  ये  स्प्रे  दिल्ली की 30,000  हैक्टर  किसानी जमीन में से केवल 744 हैक्टर जमीन पर ही किया गया।   डॉ शर्मा ने केजरीवाल पर हमला करते हुए बताया की लोगो तक पहुंचाने के लिए केजरीवाल सरकार ने  इस कार्यक्रम के प्रचार पर 15,80,36,828 रुपए  खर्च किये। उन्होंने  केजरीवाल से सवाल पूछते हुए कहा की क्या इसी दिल्ली मॉडल को पंजाब में लाना चाहते हैं।  उन्होंने कहा की अगर पंजाब और हरियाणा में पराली जलाने से दिल्ली में प्रदूषण हो रहा है तो सबसे ज्यादा प्रदूषण तो पंजाब और हरियाणा में होना चाहिए। लेकिन दिल्ली की हवा की क्वालिटी ज्यादा खराब है, ऐसा क्यों?डॉ शर्मा ने कहा कि केजरीवाल साहब अपने पडोसी राज्यों के किसानो पर ठीकरा फोड़ने से बेहतर है कि आप दिल्ली में प्रदूषण पर काबू पाने के लिए कुछ योजना बनाये।