पंजाब की डेढ़ करोड़ आबादी को सेहत बीमा से महरूम करने का अपराध किया पंजाब सरकार ने:- श्वेत मलिक

पंजाब की डेढ़ करोड़ आबादी को सेहत बीमा से महरूम करने का अपराध किया पंजाब सरकार ने:- श्वेत मलिक
–मोदी सरकार की आयुष्मान भारत योजना पर साइन ना करने का मामला
–प्राइमरी हैल्थ सेंटर से लेकर अस्पताल तक में न स्टाफ, न दवाईयां, कैंसर के मरीजों के इलाज का पैसा नहीं हो रहा जमा, भगत पूर्ण सिंह सेहत बीमा योजना ठप्प, सरकार बताये तो सही कौन सी स्कीम सुचारू चल रही है?
विश्व की सबसे बड़ी सेहत बीमा योजना आयुष्मान भारत पर पूरे देश में से सिर्फ पंजाब द्वारा हस्ताक्षर ना करने के मामले पर भाजपा ने कड़ा रूख अख्तियार किया है। इस मामले पर प्रेस विज्ञपि्त जारी करते प्रदेश भाजपा अध्यक्ष व् सांसद श्री श्वेत मलिक ने इसे पंजाब की करीब डेढ़ करोड़ आबादी को मुफ्त इलाज की मोदी सरकार की योजना से महरूम रखने का कांग्रेसी षडयंत्र करार दिया।
श्री मलिक ने कहा कि सारे हिंदूस्तान के 28 राज्यों ने इस अत्यंत महत्वपूर्ण सेहत योजना पर साइन कर दिये हैं। इस योजना के तहत लगभग आधी आबादी को प्राइवेट एवं सरकारी हस्पतालों में पांच लाख तक का मुफ्त इलाज की सुविधा दी जानी है। इसमें केंद्र ने 60 प्रतिशत पैसा देना है, लेकिन आर्थिक रूप से कंगाल पंजाब कांग्रेस सरकार ने बकाया 40 प्रतिशत हिस्सा देने से बचने की वजह से इस बीमा योजना पर हस्ताक्षर करने से मना कर दिया। मलिक ने सरकार से पुछा कि कांग्रसियों की बनाई बड़ी ओ.एस.डी. की फ़ौज को दिए जाने वाले वेतन का पैसा तो है, पर गरीब जनता को इलाज के लिए महरूम कर दिया! साथ ही राज्य की कांग्रेस सरकार अपनी राजनीति के चलते भी भाजपा की केंद्र सरकार की यह योजना पंजाब में लागू नहीं होने देना चाहती ताकि जनता मोदी सरकार का गुणगान न करने लग जाए। श्री मलिक ने कहा कि पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्ममोहिंद्रा ने इस योजना पर हस्ताक्षर ना करने के पीछे कारण बताया है कि पंजाब में पहले से कई सेहत योजनाएं चल रही हैं। जबकि सच्चाई इसके विपरीत है। हमारी सरकार द्वारा शुरू की गई भगत पूर्ण सिंह सेहत बीमा योजना कांग्रेस सरकार द्वारा पैसा न दिए जाने की वजह से ठप्प है। कैंसर के मरीजों को इलाJके लिए पिछले कई महीनों से अस्पतालों को एक भी पैसा जारी नहीं किया गया है। लिहाजा मरीजों को इलाज व दवाई का खर्च जेब से हो रहा है ,और तो और राज्य में सेहत विभाग की सबसे छोटी इकाई प्राइमरी हैल्थ सेंटर से लेकर जिला अस्पतालों तक में न स्टाफ है न दवाई। ऐसे में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह बताये कि पंजाब की जनता को इतनी बड़ी सेहत योजना से वंचित कर उनके सेहतमंत्री ने जो किया है, क्या जनता के प्रति अपराध की श्रेणी में नहीं आता। श्री मलिक ने कहा कि पंजाब की जनता के सेहत अधिकारों पर पंजाब सरकार की मनमानी भाजपा नहीं चलने देगी, इसे लेकर प्रदेशभर में प्रदर्शन कर भाजपा सरकार को इतना मजबूत कर देगी कि वो इस योजना पर साइन कर पंजाब को सेहत कवच प्रदान करे। मलिक ने पंजाब सरकार को चेतावनी दी कि केंद्र सरकार की इस लोकप्रिय योजना में रोड़ा अटकाने से आने वाले समय में कीमती इलाज न करवाने की ताकत न रखने वाली गरीब जनता को होने वाले जानी नुक्सान की पंजाब सरकार जिम्मेवार होगी!