शहीद उधम सिंह का अपमान कर रही है पंजाब सरकार: सांपला

कैप्टन सरकार का हाल, शहीद भी हुए बेहाल:
शहीद उधम सिंह के पुश्तैनी मकान/म्यूजियम पर पिछले 21 दिनों से लगा है ताला
 पंजाब में जब से कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार बनी है, तब से पंजाब व पंजाबियत का लगातार अपमान हो रहा था पर अब शहीदों का भी निरादर/अनदेखी पंजाब सरकार द्वारा की जा रही है, यह कहना है केन्द्रीय मंत्री व भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशध्यक्ष विजय सांपला का।
विस्तृत जानकारी देते हुए विजय सांपला ने कहा कि कि जहां यह पहली बार हुआ होगा कि पंजाब का कोई मुख्यमंत्री शपथ लेने के एक माह बाद श्री हरिमंदिर साहिब आशीर्वाद लेने पहुंचे हो और यह भी पहली बार हुआ होगा कि हरिमंदिर साहिब के गलियारे में लगी एल.ई.डी. स्क्रीनों पर गुरबाणी सिमरन की जगह आपत्तिजनक विज्ञापन दिखाए जा रहे हों।
सांपला ने बताया कि बात यही नहीं रूकती, कैप्टन सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने सिख धर्म के इतिहास, बलिदान को दर्शाते विरासत-ए-खालसा को सफेद हाथी कहा और अब हद तो तब हो गई, जब देश के लिए शहीद होने वाले, हमें आजादी दिलाने में मुख्य भूमिका अदा करने वाले सरदार उधम ङ्क्षसह के पुश्तैनी घर जिसको कि सरकार ने म्यूजिम का दर्जा दे रखा है, को पिछले 21 दिनों से ताला लगा हो। यह सरासर शहीदों का अपमान है और पंजाब सरकार व उसके मंत्री नवजोत ङ्क्षसह सिद्धू को तुरंत पंजाब की जनता से माफी मांगते हुए संबंधित अधिकारियों को दंडित करना चाहिए।
विजय सांपला ने कहा कि सरकार को तुरंत व्यक्ति नियुक्त कर म्यूजियम को खोलना चाहिए, ताकि देश-विदेश से आने वाले सैलानी ना सिर्फ उधम ङ्क्षसह को श्रद्धांजलि दे पाएं, उनके हाथ से लिखे हुए लेखों, पत्रों तथा उनसे जुड़े इतिहास को बेहतर तरीके से जान सकें।